चाय के बागानों से उपज़ी बेहतरीन चाय स्पिक्टेक्स इंटरनेशनल की पेशकश...

Sunday, October 30, 2011

चाय का इतिहास




बस चाय ही चाय


वैसे चाय का इतिहास पाँच हजार वर्ष पुराना है। कहा जाता है कि चाय की शुरुआत चीन से हुई थी। चीन का सम्राट शैन नुंग एक बार गर्म पानी का प्याला पीते हुए अपने बगीचे में घूम रहा था कि अचानक तेज़ हवा से एक जंगली झाड़ी के कुछ पत्ते आकर उसके पानी में गिर गये। गर्म पानी में गिरते ही उसमें से एक अलग सी महक आने लगी और पानी का रंग भी बदल गया। शेन ने रोंमांचित हो एक घूँट भरी और खुशी से चिल्ला उठा, और तभी से चाय का जन्म हुआ।


कुछ प्रमाणिक तथ्यों से ये उजागर होता है कि सबसे पहले सन् 1610 में कुछ डच व्यापारी चीन से चाय यूरोप ले गए और धीरे-धीरे ये समूची दुनिया का प्रिय पेय बन गया। भारत के गवर्नर जनरल लॉर्ड बैंटिक ने 1834 में एक समिति का गठन किया जिसमे चाय की परंपरा भारत में शुरू करने और उसका उत्पादन करने की बात रखी गई। इसके बाद 1835 में असम में चाय के बाग़ लगाए गए।


असम हमारे देश में चाय का सबसे बड़ा उत्‍पादक राज्‍य माना जाता है। इसके अतिरिक्त दार्जिलिंग, हिमालय की तराई, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, तमिलनाडु में भी चाय की पैदावार होती है। आसाम,गुवाहाटी आदि कई क्षेत्रों में हर साल नवम्बर के महिने में चाय उत्सव मनाया जाता है।

विश्व के अन्य देशों में जापान, श्रीलंका,केनिया,जावा, सुमात्रा, चीन, अफ्रीकाताईवान, इण्डोनेशिया इत्यादि भी चाय का उत्पादन करते हैं ।जापान में भी हर साल कुछ संगठनों द्वारा चाय समारोह मनाया जाता हैं।
भारत में सन 1953 में टी बोर्ड की स्थापना की गई। जिसने भारत में ही नही अन्तर्राष्ट्रीय बाज़ार में भी चाय के उत्पादन को फ़ैलाया। टी बोर्ड ने लोगों को चाय की गुणवत्ता बताते हुए चाय के प्रति जागरुक किया।

4 comments:

  1. चाय के इतिहास कि अच्छी जानकारी .. कहा जाता है कि लक्ष्मण जी कि मूर्छा जिस संजीवनी बूटी से टूटी थी वो चाय ही थी :)

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर जानकारी मिली आपके ब्लॉग पर चाय के इतिहास के बारे में.संगीता जी तो चाय में 'संजीवनी बूटी'ही देखने लगीं हैं.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    सुनीता जी ने कहा कि आज तो बस चाय से ही काम चलाइए.
    पर थोडा चाय में दूध अच्छा लगता है.
    फिर आ जाईये मेरे ब्लॉग पर निर्मल 'नाम जप' का 'दूध'दूहने के लिए.

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति...
    सादर...

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete